बनी ठनी चित्र किसने बनाया | बनी ठनी चित्र किस शैली से संबंधित है -hindifacts.in

 बनी ठनी चित्र क्या है और बनी ठनी चित्र किस शैली से संबंधित है?

बनी ठनी चित्र भारत में बनाई गई एक प्रसिद्ध चित्र है.बनी ठनी को लोग भारत की मोनालिसा भी कहते है. हालाँकि यह चित्र मोनालिसा पेंटिंग से बहुत अलग है लेकिन अगर आप दोनों चित्रों को सामने रखकर देखेंगे तो आपको लगेगा की यह मोनालिसा की पेंटिंग ही है बस इसे दुसरे साइड से बनाया गया गया है.चलिए अब जानते है की बनी ठनी चित्र क्या है? और बनी ठनी चित्र किस शैली से संबंधित है?

    1.बनी ठनी चित्र क्या है?

    बनी ठनी चित्र किस शैली से संबंधित है
    बनी ठनी चित्र किसने बनाया


    बनी ठनी चित्र एक भारतीय चित्रकला है. बनी ठनी चित्र किशनगढ़ चित्रकला से संबंधित है. यह चित्र भारत के प्रसिद्ध चित्रो में से एक है. बनी ठनी चित्र राजस्थान के किशनगढ़ में बनाई गई पेंटिंग है. इस चित्र में हमें एक स्त्री आभूषण पहने हुए दिखाई पड़ती है.


    बनी ठनी एक राजस्थानी शब्द है जिसका अर्थ सजी-ढजी या फिर सजी संवरी होता है.जैसा कि हमने पहले देखा बनी ठनी चित्र को भारत के मोनालिसा भी कहा जाता है चलिए अब जानते हैं बनी ठनी चित्र किसने और कब बनाया?


    बनी ठनी चित्र किसने और कब बनाया?

    बनी ठनी चित्र को किशनगढ़ के राजा महाराज सावंत सिंह और राज्य कलाकार निहालचंद द्वारा सन 1755-1757 के बिच में बनाया गया था.

    यह बात है 18 वीं सदी की उन दिनों राजस्थान के अजमेर जिले के किशनगढ़ मैं एक राजा हुआ करते थे. जिनका नाम महाराजा सावंत सिंह था. उन्हें कविता और चित्र बनाने का और संग्रह करने का शौक था.


    बनी ठनी चित्र को बनाने के लिए एक दिन महाराजा सावंत सिंह ने अपनी एक दासी तथा प्रेमिका को रानियों वाले पोशाक और आभूषण पहनाकर और एक जगह बिठा कर उनका चित्र बनाया. जिसे उन्होंने बनी ठनी चित्र का नाम दिया.


    यह दासी राजा सावंत सिंह के दरबार की दासी थी जो दरबार में संगीत और कविता किया करती थी.


    लेकिन कहानी सिर्फ इतनी ही नही है. उसके बाद राजा बनी ठनी चित्र को राज्य के चित्रकार को बताते है जिनका नाम होता है, निहालचंद. इसके बाद निहालचंद बनी ठनी चित्र को देखते है और उस चित्र में थोड़े बहुत सुधार करके उसकी प्रति यानी कि कॉपी बनाते है. और इस चित्र को नाम देते है बनी ठनी का चित्र।


    निहालचंद भारत के एक प्रख्यात कलाकरों मेसे एक रह चुके है. उन्होंने राजा सावंत सिंह ओर दासी के बहुत सारे चित्र बनाए थे. जिसे लोग राधा कृष्ण की जोड़ी मानते है. निहालचंद ने कई प्रकार की राजपुताना चित्र भी बनाए थे.


    यह चित्र किशनगढ़ में बनाई गई होने की वजह से बनी ठनी चित्र को किशनगढ़ चित्र शैली से संबंधित माना जाता है. यह चित्र 48 ✕ 36 Cm के आकार में बनाया गया था.


    बनी ठनी चित्र को अन्य नामो से बुलाया जाता है जैसे की, कलावंती, उत्सव प्रिया, नागर रमणी, लवलिज, व राजस्थान की मोनालिसा, राजस्थान की राधा.


    2.बनी ठनी पर डाक टिकट

    बनी ठनी डाक टिकट
    बनी ठनी डाक टिकट


    आगे चल कर बनी ठनी पेंटिंग ज्यादा प्रख्यात होने की वजह से और कलाकार निहालचंद की याद में भारत सरकार के डाक विभाग द्वारा 5 मई 1973 को बनी ठनी चित्र का डाक टिकट भी जारी किया था. बनी ठनी डाक टिकट 20 पैसे का था.

    3.बनी ठनी चित्र किस शैली से संबंधित है?

    बनी ठनी चित्र किशनगढ़ में बनाई गई होने होने की वजह से बनी ठनी चित्र किशनगढ़ चित्र शैली से संबंधित है.

    4.बनी ठनी का चित्रकार कौन है?

    बनी ठनी चित्र के चित्रकार किशनगढ़ के राजा महाराजा सावंत सिंह और राज्य कलाकार निहालचंद है.

    5.बनी-ठनी चित्र शैली कहां स्थित है?

    बनी ठनी चित्र शैली राजस्थान के किशनगढ़ में स्थित है. इस चित्र को सन 1753-1755 के बिच में बनाया गया था. बनी ठनी चित्र को अजमेर संग्रहालय में रखा गया है. तथा बनी ठनी चित्र की एक प्रति यानि की कॉपी को पेरिस के अल्बर्ट होल में रखा गया है.

    6.बनी ठनी का वास्तविक नाम क्या था? 

    बनी ठनी किशनगढ़ के राजा सावंत सिंह की दासी, संगीतकार, और कवियित्री थी. बनी ठनी का वास्तविक नाम विष्णुप्रिया था. विष्णुप्रिया उसकी सुन्दरता और संगीत के लिए प्रख्यात थी. इसीलिए राजाने इसका चित्र बनाया था. जो आज विश्व भर में प्रसिद्धि प्राप्त कर चुकी है.

    तो दोस्तों मुजे उम्मीद है की आपको हमारा यह लेख बनी ठनी चित्र क्या है और बनी ठनी चित्र किस शैली से संबंधित है? आपको पसंद आया होगा. आप हमारे दुसरे लेख निचे दी गए लिंक से मुफ्त में पढ़ सकते है.

    FOLLOW US ON:- INSTAGRAM


    Previous
    Next Post »