जानिए कंप्यूटर का अविष्कार किसने किया था और कब -hindifacts.in

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था और कब?

आज के आधुनिक युग में कंप्यूटर हमारे जीवन का एक important हिस्सा बन चुका है. और मनुष्य की प्रजाति को आगे बढ़ने में और नए नए संसोधनो में इसका एक बहुत बड़ा योगदान भी है. आजकल तो हर किसी के घर में एक कंप्यूटर या फिर लैपटॉप तो होता ही है. लेकिन आपको पता है की कंप्यूटर का अविष्कार किसने किया था और कब? पूरी जानकारी के लिए पूरा आर्टिकल जरुर पढ़े.

    1.कंप्यूटर का अविष्कार किसने किया था और कब?

    👉कंप्यूटर का अविष्कार चार्ल्स बाबेज ने किया था. सन 1922 में.

    2.कंप्यूटर क्या है?

    कंप्यूटर क्या है
    कंप्यूटर क्या है


    दोस्तों कंप्यूटर एक एलेक्ट्रोनोक मशीन है. जिसका प्रयोग इंसान अपने हिसाब से अलग अलग कामो के लिए करता है. COMPUTER अंग्रेजी शब्द "COMPUTE" से बना है जिसका अर्थ "गणना" करना होता है. कंप्यूटर किसी एक चीज से नहीं बनता है, कंप्यूटर को बोहोत सारी चीजो को मिलाकर बनाया जाता है. जैसे की,
    • मोनिटर
    • CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट)
    • कीबोर्ड 
    • माउस
    • स्पीकर

    3.कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है?

    कंप्यूटर को मुख्य रूप से 2 भागो में विभाजित किया जा सकता है.
    (1)कंप्यूटर और (2) लैपटॉप. 

    हालाँकि नार्मल लोगो के लिए सरल कंप्यूटर होते है. जबकि दुनिया में कई सारे सुपर कंप्यूटर भी बनाए गए है. जिनकी ताकत और काम करने की क्षमता नोर्मल कंप्यूटरों के मुकाबले कई गुना अधिक होती है.
    दुनिया का जो सबसे ज्यादा पावरफुल कंप्यूटर बनाया गया है उसका नाम "फुगाकू" है. यह कंप्यूटर जापान द्वारा बनाया गया है. जिसका उपयोग वैज्ञानिक रिसर्च करने के लिए करते है.

    4.कंप्यूटर और लैपटॉप में क्या अंतर है?

    दोस्तों एक कंप्यूटर और लैपटॉप में एक तरीके से देखा जाए तो कोई भी अंतर नहीं होता है. आप जो काम एक कंप्यूटर में कर सकते हो वो सारे काम आप एक लैपटॉप में भी उतनी ही आसानी से कर सकते हो. बस सिर्फ फर्क है उनके आकर का! 

    हम एक लैपटॉप को आसानी से कही भी लेकर जा सकते है. जबकि कंप्यूटर को एक बार जहाँ रख दिया फिर वही रहेगा उसके बड़े आकार की वजह से हम उसे कही भी लेकर नहीं जा सकते. इसीलिए जो बड़े बिज़नेस-मेन और विद्यार्थी लैपटॉप खरीदते है क्यूंकि उसे फिर आसानी से कही भी लेकर जाया सकता है.

    इसके साथ ही एक छोटा सा फर्क होता है उनके स्पीड में. क्यूंकि लैपटॉप को कॉम्पैक्ट साइज़ का बनाने के लिए उसमे डाली गई चीजो को भी छोटा करना पड़ता है इसीलिए उनकी स्पीड भी थोड़ी कम होती है कंप्यूटर के मुकाबले. और लैपटॉप आपको थोड़े महंगे देखने को मिलते हे कंप्यूटर के मुकाबले. 

    तो अगर आपका काम सिर्फ एक जगह बैठ करने वाला है तो आपके लिए कंप्यूटर बेस्ट विकल्प हो सकता है. लेकिन अगर आपका काम एक जगह बैठ कर करने वाला नहीं है तो फिर आप लैपटॉप को खरीद सकते है.

    5.कंप्यूटर का अविष्कार कैसे हुआ?

    दोस्तों अगर में आपसे बात करू एक पुरे कंप्यूटर की तो ये बताना थोडा मुस्किल होगा की आखिर कंप्यूटर का अविष्कार किसने किया था! क्योंकि जैसे की हमने आपको बताया की कंप्यूटर किसी एक भाग से नही बनता, इसमें मोनिटर, C.P.U.(यानि की  सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट ) और साथ ही माउस-किबोर्ड का भी इस्तेमाल होता है.इसी वजह से इन सभी चीजो को अलग अलग लोगो के द्वारा बनाए गया थे. लेकिन आप चिंता न करे में आज आपको कंप्यूटर के अविष्कार से जुड़े आपके सारे सवालों के जवाब दूंगा. और बताऊंगा की कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था
    computer ka avishkar kisne kiya tha
    computer ka avishkar kisne kiya tha
     
    दोस्तों जैसे की आपने स्कूल में पढ़ा होगा, कंप्यूटर के अविष्कार के लिए पूरा श्रेय गणित के प्रोफ़ेसर चार्ल्स बाबेज को दिया जाता है. और इन्हें कंप्यूटर के पिता के नाम से भी जाना जाता है.
    वैसे तो कंप्यूटर को बनाने की पहल तो कई सालो से चली आ रही है.और समय के बीतने के साथ साथ एक के बाद एक नई नई टेक्नोलॉजी का अविष्कार होता गया, जिसके वजह से ही आज हम इस आधुनीक दुनिया में जी रहे है.अब हम आपको बताएँगे कंप्यूटर की खोज किसने की और कैसे उसका पूरा इतिहास !

    I. Abacus की ख़ोज

    computer ka avishkar kaise hua


    आज के आधुनिक कंप्यूटरों का इतिहास शुरू होता है लगभग 3000 साल पहले. जब चीन में एक छोटी सी गिनती करने वाली मशीन का अविष्कार हुआ. जिसे Abacus के नाम से जाना जाता है. दोस्तों शायद आपने भी इसे बचपन में अपने स्कूल में देखा होगा जोकि एक सामान्य प्लास्टिक के फ्रेम के अन्दर कुछ vertical तारे लगी होती थी और जिसमे कुछ गोल गोल बिड्स भी लगी हुई होती थी. हालाँकि अब इसका इस्तेमाल नहीं किया जाता लेकिन कंप्यूटरों के आने से पहले किसी भी प्रकार की गिनती के लिए इन्हें ही use किया जाता था. 

    II. Blase pascal की खोज

    Blase pascal की खोज
    Blase pascal की खोज

    दोस्तों इसके बाद 17 वि सदी में सन 1646 में फ़्रांस के एक गणित शास्त्री (ब्लेज़ पास्कल) ने अंको को जोड़ घटान करने वाली एक मशीन का अविष्कार किया. जिसे (adding machine) के नाम से भी जाना जाता है. इस मशीन में घड़ी के अन्दर मौजूद चक्रों की तरह ही कई चक्र लगे हुए होते थे. और प्रत्येक चक्र पर अंक(0-9) दर्शाए गए थे. और सभी चक्रों को अलग भागो में जैसे की इकाई दही और सैकड़ा में विभाजित किया गया था. लेकिन ये यंत्र खाली जोड़ और घटाने में उपयोग में आता था.

    III. Charles Babbage द्वारा पहले कंप्यूटर का अविष्कार

    computer ki khoj kisne ki thi
    computer ki khoj kisne ki thi

    दोस्तों 19 वि सदी को कंप्यूटरों के इतिहास का स्वर्ण समय माना जाता है, कंप्यूटर के आविष्कार में  इनका काफी important योगदान रहा हे. एक Mathematician CHARLES BABBAGE(चार्ल्स बाबेज) को एक मिकेनिकल Calculation करनेवाली मशीन के आविष्कार की जरूरत तब पड़ी जब इंसानों द्वारा बनाए गए सारणी में गलती आने लगी. ये सारणी हाथो द्वारा बनी हुई होने की वजह से इनमे error आने की सम्भावना ज्यादा थी.

             इसी को ध्यान में रखते हुए चार्ल्स बाबेज ने सन 1822  में एक mechanical मशीन की रचना की. इन मशीनो में बहुत सारे गियर्स लगे होते थे.  इस मशीन का नाम डिफरेंस इंजिन दिया गया. यह इंजिन पानी के भाप से चलता था. सन 1833 में इस मशीन का upgraded version  लाया गया. जिसका नाम Analytical engine रखा गया. दोस्तों कंप्यूटर की दुनिया में चार्ल्स बाबेज का बहुत बड़ा हाथ हे. और उनके इन्ही अविष्कार से आधुनिक कंप्यूटर युग की सुरुआत हुई. इस मशीन में भी थोड़ी दिक्कत थी. लेकिन इसको वह ठीक नहीं कर पाए क्यूंकि सन 1871 में उनकी मृत्यु हो गई. जिसे फिर उनके लड़के हेनरी बाबेज ने सन 1888 में  इसे ठीक किया.

    6.दुनिया का सबसे पहला इलेक्ट्रिक कंप्यूटर किसने बनाया?

    since1940 में इलेक्ट्रोनिक Calculation एक बड़ी उचाई पर पहुच चूका था. इसी बिच आज के ज़माने में कंप्यूटर में EXPERT कहलाने वाली कंपनी IBM के 4 बड़े ENGINEERS और डो.हावर्ड ने मिलकर दुनिया का सबसे पहला इलेक्ट्रिक कंप्यूटर बना दिया. इसे सन1944 में बनाया गया, इसके बाद उसे 7 अगस्त 1944 को आज के ज़माने की विश्व विख्यात हावर्ड यूनिवर्सिटी में भेज दिया गया. इस कंप्यूटर का नाम Automatic Sequence Controlled Calculator (ascc) रखा गया.

    दोस्तों यहाँ एक interesting बात ये हे की इस  कंप्यूटर में हम कोईभी गुना करनेें के लिए 1 second का टाइम लगता था,जबकि अगर हमें कोई भगा (Divide) करना हो तो हमें 12 second का टाइम लगता था. तो हम इस हिसाब से दुनिया के सबसे पहले कंप्यूटर की स्पीड का अंदाजा लगा सकते हे.

    आधुनिक इलेक्ट्रिक कंप्यूटर का आविष्कार

    अंत में सन1945 में ATANASOFF और  CLIFFORD BERRY  ने मिल कर दुनिया का सबसे पहला आधुनिक इलेक्ट्रिक कंप्यूटर का आविष्कार किया. इस कंप्यूटर का नाम  उनके नाम पर से A.B.C. रखा गया. दोस्तों अब आधुनिक कंप्यूटर का दौर सुरु हो चूका था.इसीलिए इसमें अलग अलग खोज होती गई और कंप्यूटर अधिक से अधिक आधुनिक होते गए. आज आप देख ही सकते हे की कंप्यूटर की दुनिया कितनी ज्यादा आगे बढ़ चुकी हे.

    विज्ञान ने कंप्यूटर क्षेत्र में इतनी ज्यादा तरक्की कर ली हे आज हम कोई भी काम इंटरनेट और कंप्यूटर की मदद से चुटकी भर में कर सकते हे. कंप्यूटर का आविष्कार मानव जीवन में एक वरदान की तरह साबित हुआ हे.

    7.भारत में सबसे पहला कंप्यूटर का अविष्कार कब हुआ?

    दोस्तों भारत में सबसे पहले कंप्यूटर का अविष्कार सन 1966 में भारतीय सांख्यिक संसथान तथा जादवपुर यूनिवर्सिटी द्वारा साथ मिलकर बनाया गया था. यह भारत में बना प्रथम स्वदेशी कंप्यूटर था. जिसका नाम ISIJU रखा गया था. यह कंप्यूटर विश्व के कंप्यूटर से थोडा अलग था. क्यूंकि दुसरे देश के कंप्यूटर वेक्यूम ट्यूब पर काम करते थे. लेकिन भारत में बनाया गया पहला कंप्यूटर इंटीग्रेटेड सर्किट पर काम करता था.

    हालाँकि भारत में कंप्यूटर का आगमन पहले ही हो चूका था! भारत में सर्वप्रथम कंप्यूटर सन 1952 में कोलकाता में स्थित भारतीय विज्ञान संस्था द्वारा विदेश से खरीद कर लाया गया था. लेकिन यह कंप्यूटर एनालोग कंप्यूटर था. इसके बाद भारत में सन 1956 में पहली बार इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर ख़रीदा गया था.जिसका नाम था HEC-2M. यही से भारत में शुरुआत होती है कंप्यूटर जगत की.  

    8.लैपटॉप का अविष्कार किसने किया?

    लैपटॉप का अविष्कार किसने किया
    लैपटॉप का अविष्कार किसने किया


    लैपटॉप का अविष्कार मनुष्य जगत के लिए एक वरदान से कम नहीं है. क्यूंकि यह इतिहास में पहली बार हुआ था जब कोई व्यक्ति अपने कंप्यूटर को कहीं पर भी लेकर जा सकता था.
          
    दोस्तों दुनिया के पहले लैपटॉप का अविष्कार सन 1981 में "Adam Osborne" द्वारा किया गया था. इसका नाम उसके आविष्कारक के ऊपर से "Osborne 1" रखा गया था. यह पर्सनल कंप्यूटर की उस समय की कीमत लगभग $1500  थी. एक इंट्रेस्टिंग बात यह है की इनकी सेल तक़रीबन 10,000 लैपटॉप प्रति महीने की हो गई थी. जोकि एक बहुत बड़ी बात थी.

    हालाँकि यह लैपटॉप ज्यादा ताकतवर नहीं था फिर भी हम इसमें 10*10 मैट्रिक्स की गिनती कर सकते थे. इस लैपटॉप में कुछ प्री-इनस्टॉल सॉफ्टवेर कंपनी द्वारा बना कर दिए गए थे और लैपटॉप में कीबोर्ड के साथ साथ एक छोटी सी स्क्रीन भी दी गई थी.    

    तो दोस्तों कैसा लगा आपको हमारा पोस्ट "कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था और कैसे?" और आप क्या सोचते हो आधुनिक कंप्यूटरों के बारे में? हमें अपनी राय निचे COMMENT करके जरुर बताइए.click here to read more www.hindifacts.in

    📘ये भी पढ़े!

    Previous
    Next Post »